भारत में Quadruple Marker टेस्ट की व्यापक गाइड (Quadruple Marker Test in Hindi)

भारत में Quadruple Marker टेस्ट की गाइड / दिल्ली में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत

LabsAdvisor.com आपको Quadruple Marker टेस्ट पर पूरी जानकारी प्रदान करता है। इस टेस्ट के अंतर्गत निम्न विषयों का विवरण किया गया है:

  1. Quadruple Marker टेस्ट क्या है?
  2. Quadruple Marker टेस्ट क्यों किया जाता है?
  3. Quadruple Marker टेस्ट के पीछे का विज्ञान
  4. Quadruple Marker टेस्ट किस किस को करवाना चाहिए।
  5. Quadruple Marker टेस्ट की प्रक्रिया क्या है?
  6. Quadruple Marker टेस्ट के ख़तरे और साइड इफेक्ट्स
  7. Quadruple Marker टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है?
  8. भारत में Quadruple Marker टेस्ट की क्या कीमत है?
  9. भारत में Quadruple Marker टेस्ट कैसे बुक करें?

Quadruple Marker टेस्ट बुक करने के लिए, आप 08882668822 पर फोन या WhatsApp कर सकते हैं और हमारे ग्राहक सेवा प्रतिनधि की तरफ से अगर call back चाहतें हैं तो नीचे दिए गए फॉर्म में अपनी details भरें।


₹ 200 का वाउचर पाएँ और LabsAdvisor के साथ कोई भी मेडिकल टेस्ट करवाएँ। 

कोड प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।


Quadruple Marker टेस्ट क्या है?

Quadruple Marker टेस्ट, एक Quad स्क्रीन के रूप में भी जाना जाता है, यह टेस्ट महिला के गर्भावस्था के दूसरी तिमाही में किया जाने वाला ब्लड टेस्ट है। इसलिए, इसे Second Trimester टेस्ट भी कहते हैं। यह टेस्ट महिला और उसकी गर्भावस्था के बारे में उपयोगी जानकारी के साथ उसके स्वास्थ्य की देखभाल की जानकारी भी प्रदान करता है और इसमें ये भी जाँच की जाती है कि बच्चे के साथ कोई आनुवंशिक बीमारी तो नही जुडी है।

Quadruple Marker टेस्ट क्यों किया जाता है?

निम्नलिखित विसंगतियों के लिए Quadruple Marker स्क्रीन टेस्ट किया जाता है:

Neural Tube Defects: इसमें मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी जैसे जन्मदोष होते हैं। ये गर्भावस्था के पहले महीने में होते हैं, अक्सर तब जब महिला को पता हो कि वह गर्भवती है। न्यूरल ट्यूब के दो सबसे आम प्रकार के दोष Spinal Bifida और Anencephaly हैं। Spinal bifida में भ्रूण स्पाइनल कॉलम को पूरी तरह से बंद नहीं करता है। इसके परिणाम में तंत्रिका क्षति (Nerve Damage) हो जाती है, जिससे बच्चे के पैरों में पक्षाघात हो जाता है। Anencephaly में, मस्तिष्क और खोपड़ी ठीक से विकसित नहीं होते हैं। जो बच्चे anencephaly के साथ पैदा होते है वो मृत या जन्म के बाद शीघ्र ही मर जाते हैं।

डाउन सिंड्रोम (Down’s Syndrome): डाउन सिंड्रोम एक आनुवंशिक गुणसूत्र विषमता के कारण उत्पन्न होने वाली स्थिति है। जो 700 बच्चों में से एक को प्रभावित करता है। डाउन सिंड्रोम के साथ बच्चे विकलांग और हृदय रोग, फेफड़ों की समस्याओं, आंत्र समस्याओं और साइनस जैसे विभिन्न मेडिकल समस्याओं की एक विस्तृत श्रृंखला है। डाउन सिंड्रोम के साथ लोगों में ज्यादातर लंबी अवधि के समर्थन की जरूरत होती है। इस रोग के लिए कोई इलाज नहीं है, हालांकि शीघ्र हस्तक्षेप और समर्थन से काफी सुधार कर सकते हैं।

Trisomy 18: इसके अलावा इसे टर्नर सिंड्रोम भी कहा जाता है, trisomy 18 भी क्रोमोसोमल के उत्परिवर्तन के कारण होता है। Trisomy 18 के साथ अधिकांश बच्चे जन्म के बाद शीघ्र ही मर जाते हैं। जो लोग जीवित रहते हैं वह गंभीर रूप से बीमार रहते हैं और शायद ही अपना पहला जन्मदिन बना पाते है।

Quadruple Marker टेस्ट के पीछे का विज्ञान

जब महिला गर्भवती होती है, तब कुछ पदार्थ उसके रक्त में नाल या भ्रूण द्वारा जारी किए जाते है। इन पदार्थों या मार्कर की राशि को मापने के द्वारा खतरों के कारणों की गणना की जाती है। Quadruple Marker टेस्ट में चार मार्कर टेस्ट शामिल हैं:

अल्फा फीटो प्रोटीन (Alfa-Feto Protein -AFP) – एएफपी भ्रूण के लीवर द्वारा उत्पादित पदार्थ है। गर्भवती महिला के खून में एएफपी की राशि बच्चे में जन्म दोष को देखने में मदद कर सकता है। यह भी डाउन सिंड्रोम और Trisomy 18 की तरह क्रोमोसोमल दोष के लिए स्क्रीन करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। एएफपी का स्तर यह भी संकेत करता है कि बच्चे को एक जन्मजात समस्या जिसमें आंत पेट की दीवार से चिपक जाती है। एएफपी आम तौर पर एक स्वस्थ आदमी या एक स्वस्थ गैर गर्भवती महिला के रक्त में नही पाया जाता। गर्भावस्था में, एएफपी के स्तर गर्भावस्था के 14 वें सप्ताह से धीरे-धीरे बढ़ जाते है। प्रसव से पहले एक या दो महीने तक वृद्धि जारी रहती है।

एएफपी के सामान्य मूल्य औरत की उम्र, जाति, वजन और मधुमेह की स्थिति के अनुसार समायोजित किया जाता है।

एएफपी के उच्च स्तर:

  • एक से अधिक बच्चे की गर्भावस्था का होना।
  • बच्चे के गर्भ की आयु गलत होना।
  • बच्चे को Neural Tube का दोष का होना।
  • बच्चे की आंत पेट की दीवार से बाहर होना।

एएफपी कम स्तर:

  • गर्भावधि उम्र अनुमानित उम्र से कम होना।
  • बच्चे को डाउन सिंड्रोम का होना।

गर्भ की आयु और गर्भधारण की संख्या निर्धारित करने के लिए Quad टेस्ट से पहले आमतौर पर अल्ट्रासाउंड किया जाता हैं। यह जन्म दोष के ख़तरे की गणना करने के लिए महत्वपूर्ण है।

Human chorionic Gonadoprotein (HCG) – एचसीजी एक हार्मोन है जो नाल से बना होता है और मां के रक्त और मूत्र में जारी होता है। एचसीजी के स्तर भ्रूण आरोपण के बाद तेजी से बढ़ जाता है। यह गर्भावस्था के 14 वें सप्ताह में अधिकतम और फिर धीरे-धीरे कम हो जाता है। एचसीजी बच्चे के विकास में मदद करता है।

एचसीजी के उच्च स्तर

  • एकाधिक गर्भावस्था
  • Molar गर्भावस्था

एचसीजी के कम स्तर

  • गर्भावधि उम्र अनुमानित उम्र से कम है।
  • अस्थानिक गर्भावस्था। यह एक ऐसी गर्भावस्था है जिसमें भ्रूण गर्भाशय के बाहर विकसित होता है।
  • गर्भपात की संभावना का होना।

भारत में बीटा एचसीजी टेस्ट की कीमत की जाँच यहाँ करें।

Estriol – Estriol एक एस्ट्रोजन, नाल और भ्रूण के लीवर द्वारा निर्मित होता है। गर्भावस्था के पहले 9 सप्ताह में Estriol पाया जा सकता है और इसका स्तर प्रसव तक बढ़ता रहता है। Estriol की असामान्य स्तर का मतलब है कि बच्चे में डाउन सिंड्रोम और Trisomy 18 तरह क्रोमोसोमल दोष होने की संभावना है।

Inhibin A – यह एक हार्मोन है जो नाल द्वारा बना होता है। एक सामान्य परिणाम का मतलब है कि Inhibin का स्तर कम और नकारात्मक है। अगर एक स्तर Inhibin अधिक है, तो बच्चे में डाउन सिंड्रोम का खतरा बढ़ जाता है।

भारत में Inhibin A टेस्ट की कीमत की जाँच यहाँ करें।

दिल्ली में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत
LabsAdvisor.com- Quadruple Marker Test in India

Quadruple Marker टेस्ट किस किस को करवाना चाहिए।

सभी महिलाओं को दूसरी तिमाही में एक बार इस टेस्ट को ज़रूर करवाना चाहिए। यह टेस्ट सबसे ज़्यादा उन महिलाओं के लिए सिफारिश किया जाता है जिन्होंने:

  • पहली तिमाही में स्क्रीनिंग या dual marker टेस्ट न कराया हो।
  • जिनकी उम्र 35 या उससे ज़्यादा की हो।
  • जन्म दोष का कोई पारिवारिक इतिहास हो।
  • मधुमेह या इंसुलिन की दवाई लेती हो।
  • गर्भावस्था के दौरान कोई वायरल संक्रमण हो।
  • लंबी अवधि के लिए कोई विकिरण का प्रदर्शन किया हो।

Quadruple Marker टेस्ट की प्रक्रिया क्या है?

Quadruple Marker टेस्ट आमतौर पर गर्भावस्था के 15 वें सप्ताह और 20 वें सप्ताह के बीच किया जाता है। यह प्रक्रिया गर्भवती महिला के खून से किया जाता है।

  • इसमें आपकी ऊपरी बांह के चारों ओर एक पट्टा कसकर बांधा जाता है।
  • खून लेने वाली जगह को रुई से अच्छे से साफ किया जाता है।
  • शीशी के साथ लगी हुई सुई को नस में इंजेक्ट करके रक्त निकाला जाता है।
  • रक्त नमूने के साथ शीशी को कसकर बंद करके उस पर लेबल लगा दिया जाता है।
  • इंजेक्शन वाले स्थान को हल्के से दबाया जाता है और उस पर छोटी सी पट्टी लगा दी जाती है।
  • खून का नमूना जाँच के लिए लैब में भेजा जाता है।

Quadruple Marker टेस्ट के ख़तरे और साइड इफेक्ट्स

Quadruple Marker टेस्ट गर्भवती महिला का होने वाला एक साधारण रक्त परीक्षण है जिससे उनके बच्चे को कोई नुकसान नही होता। सुई इंजेक्ट वाली जगह पर हल्का सा नील पढ़ सकता है जो बहुत जल्द ठीक भी हो जाता है। किसी-किसी का खून बहने और खून जमने की समस्या हो सकती है। यदि आपको इन सब में से कोई भी समस्या होती हों तो टेस्ट से पहले अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं।

Quadruple Marker टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है?

Quadruple Marker टेस्ट सिर्फ एक स्क्रीनिंग टेस्ट है और यह एक निश्चित नैदानिक परीक्षण नही है। यह केवल बच्चे के जन्म के साथ किसी जन्म दोष या तंत्रिका दोष की और संकेत करता हैं। असामान्य परिणाम  को आगे के नैदानिक परीक्षण के संकेत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। ये नैदानिक टेस्ट हो सकते है:

  • उच्च परिभाषा अल्ट्रासाउंड परीक्षा जो जन्म दोष या बच्चे के विकास में असामान्यता के लक्षण को देखने के लिए किया जाता है।
  • Amniocentesis – इसमें आनुवंशिक और क्रोमोसोम टेस्ट के लिए एमनियोटिक द्रव का एक नमूना शामिल है और निश्चित रूप से भ्रूण में आनुवंशिक और क्रोमोसोमल समस्याओं का निदान कर सकते हैं। Amniocentesis से गर्भपात का एक छोटा सा ख़तरा रहता है।

भारत में Quadruple Marker टेस्ट की क्या कीमत है?

 भारत के विभिन्न शहरों में Quadruple मार्कर टेस्ट की कीमत की पूरी सूची जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।

भारत में महानगरों के लिए, आप नीचे दी गई तालिका में Quadruple मार्कर टेस्ट की कीमत की जांच कर सकते हैं और अपने शहर में टेस्ट बुक करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक भी कर सकते हैं।

भारतीय शहरों में Quadruple Marker
टेस्ट
LabsAdvisor.com में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत Quadruple Marker टेस्ट के मार्किट मूल्य
दिल्ली में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 1780 ₹ 4600
नोएडा में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 2240 ₹ 4600
गुड़गांव में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 2240 ₹ 4600
मुंबई में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 2100 ₹ 2800
हैदराबाद में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 2720 ₹ 4000
चेन्नई में Quadruple Marker टेस्ट की कीमत ₹ 3690 ₹ 4100

₹ 200 का वाउचर पाएँ और LabsAdvisor के साथ कोई भी मेडिकल टेस्ट करवाएँ। 

कोड प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।


भारत में Quadruple Marker टेस्ट कैसे बुक करें?

भारत में Quadruple Marker टेस्ट बुक करने के लिए 08882668822 पर कॉल करें। ऑनलाइन टेस्ट बुक करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से हमारे एंड्रॉयड ऐप ‘LabsAdvisor’ को डाउनलोड कर सकते हैं। अगर आप call back चाहते हैं, तो इस लेख के शुरू में दिए गए फॉर्म में अपनी details भरें।

हमारे द्वारा कुछ अन्य लेख भी लिखें गए है जो आपके लिए उपयोगी हो सकते है। जिनकी सूची नीचे दी गयी है :


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s