किडनी / गुर्दे  की बीमारी की विस्तृत जानकारी / Kidney Function Test in Hindi

गुर्दे शरीर के अन्य अंगों की तरह नाज़ुक होते हैं। इनके बिगड़ जाने से पूरे शरीर की बनावट बिगड़ जाती है ,इसलिए इनका खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। बहुत सी छोटी-छोटी बातों को अपनाकर गुर्दों की बीमारी से बचाव किया जा सकता है। संसार में जैसे-जैसे उन्नति होती जा रही है वैसे-वैसे देश में गुर्दा (किडनी) रोग से पीड़ित लोगों की संख्या में बढ़ोतरी होती जा रही है। हमारे देश में कितने लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं इसका अंदाजा स्वाभाविक रूप से ही लगाया जा सकता है।

किडनी / गुर्दे की शरीर में भूमिका

गुर्दे इंसान की मुट्ठी के बराबर के होते हैं। यह रीढ़ की हड्डी के दोनों तरफ होते हैं।गुर्दे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनका सबसे महत्वपूर्ण काम खून को फ़िल्टर करके उसमे से अपशिष्ट पदार्थों को यूरिन के रूप में शरीर से बाहर निकालना है,और रासायनिक संतुलन बनाए रखना है। साथ ही इनमें से हारमोन भी निकलते हैं। कम से कम  110 लीटर खून प्रतिदिन गुर्दों से होकर गुजरता है। गुर्दे इस खून को साफ़ करके और उसमें से बेकार पदार्थ , क्रियेटिनिन, यूरिया, पोटैशियम, जहरीले पदार्थ और आवश्यकता से अधिक पानी को बाहर कर देते हैं।

जब गुर्दे खून में उपलब्ध अधिक पानी को बाहर नहीं निकाल पाते हैं , तो उसकी वज़ह से ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है तथा हृदय को अधिक काम करना पड़ जाता है।

गुर्दे से तीन हारमोन रेनिन , ऐरिथ्रोपोयटिन तथा कैल्सिट्रियाल निकलते हैं। रक्तचाप सामान्य होने पर रेनिन का स्राव होता है।ऐरिथ्रोपोयटिन खून के तत्वो को प्रेरित करता है, यह खून बनाने के लिए अति आवश्यक है।  कैल्स्ट्रियाल हड्डियों में कैल्सियम तथा रासायनिक संतुलन बनाए रखता है।

गुर्दे शरीर में पानी का स्तर और विभिन्न खनिज को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, वे निम्न उत्पादन के लिए भी महत्वपूर्ण हैं:

  • विटामिन डी
  • लाल रक्त कोशिकाओं
  • हार्मोन से रक्तचाप को नियंत्रित करने में

किडनी रोग के लक्षण / गुर्दा रोग के लक्षण

गुर्दे के कम समय (अस्थायी) के रोग, जैसे गुर्दे या यूरिन की नली में इंफेक्शन होना, गुर्दे में पथरी का बनना, लूज मोशन हो जाने की वजह से शरीर में पानी की कमी होना, चोट का लगना आदि हो सकते हैं। और साथ ही कुछ दवाओं के लेने से भी गुर्दे की कार्य प्रणाली पर असर पड़ता है। गुर्दे की खराबी का अधिकांश कारण स्थायी बिमारी हैं। ये बिमारी तब शुरू होती है, जब गुर्दे 3 महीने लगातार शरीर से अवांछनीय पदार्थों को निकालने में असर्मथ रहते हैं।

 अन्य लक्षण निम्न हैं:-

  • हाथों और पैरों में सूजन होना
  • बी. पी. का लेवल बड़ा रहना
  • यूरिन में खून के आना
  • बार-बार पेशाब आना
  • पेशाब करने में दिक्कत आना
  • भूख कम लगना

अगरआपको इनमें से कोई भी लक्षण महसूस होता है तो इसका मतलब है कि आपके गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं।  शीघ्र ही अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें। और आपको  किडनी फंक्शन टेस्ट करवाना चाहिए । ये साधारण खून टेस्ट है, जिससे आपके गुर्दे की समस्याओं की पहचान हो सकती है।


₹ 200 का वाउचर पाएँ और LabsAdvisor के साथ कोई भी मेडिकल टेस्ट करवाएँ। 

कोड प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।


LabsAdvisor, भारत में सबसे बड़ा मेडिकल टेस्ट का प्लेटफॉर्म है, जो भारत में स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में सुधार लाने की दिशा में काम कर रहा है। इस प्रयास का एक बड़ा हिस्सा लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जागरूक करना है, जिसका वे सामना कर रहें हैं।

किडनी फंक्शन टेस्ट की जानकारी LabsAdvisor

Summary Information About Kidney Function Test / KFT in Hindi

किडनी की पथरी / गुर्दे की पथरी / Kidney Stone in Hindi

 जब गुर्दे में छोटे-छोटे पत्थर होने लगते हैं तो इससे गुर्दे में पथरी (Gurde ki Pathri) की समस्या पैदा होती है। ये आमतौर पर मध्य आयु (35 साल) या उसके बाद पता लगनी शुरू होती है। लेकिन ये जरूरी नहीं है क्योंकि पथरी की समस्या युवाओं और कम आयु वाले बच्चों में भी देखने को मिलती है। पेशाब (यूरिन) में पाये जाने वाले रासायनिक तत्वों से पथरी बनती है। इन तत्वों में  फास्फोरस कैल्शियम,यूरिक एसिड,और ओ़क्जेलिक एसिड शामिल हैं। कैल्शियम ओक्जेलेट (Calcium Oxalate) से 90% पथरी का निर्माण होता है।

गुर्दे में पथरी एक या अधिक हो सकती है। कभी कभी पथरी बिना किसी दर्द के यूरिन के माध्यम से बाहर निकल जाती है।अगर ये बड़ी हो जाएं, 2-3 मिमी की , तो ये मूत्रवाहिनी में रुकावट पैदा कर देती हैं। इस स्थिति में बहुत असहनीय दर्द होता है।

गुर्दे की पथरी (Kidney Stone) का दर्द काफी तेज होता है। जब पथरी अपने स्थान से इधर उधर खिसकती है तब दर्द ज़्यादा होता है। और यह  गुर्दे से खिसककर युरेटर और फिर यूरिन ब्लैडर में आ जाती है।

गुर्दे रोग / किडनी रोग के उपचार

  • स्वस्थ भोजन खाएं
  • पानी ज्यादा पियें
  • रोज़ाना 30 मिनट तक तेज-तेज चलें
  • शरीर का वजन नियमित सीमा में रखना
  • नमक का उपयोग कम करना
  • रोज़ व्यायाम करें
  • स्मूकिंग एवं अन्य नशीली चीजों का सेवन कम करें
  • दर्द निवारक दवाइयों का सेवन कम से कम करें

किडनी फंक्शन टेस्ट में उपलब्ध Parameters

  • यूरिक एसिड (Uric Acid)
  • सीरम यूरिया (Serum Urea)
  • सीरम क्रिएटिनिन (Serum Creatinine)
  • यूरिया/ क्रिएटिनिन रेश्यो (Urea / Creatinine Ratio)
  • ब्लड यूरिया नाइट्रोजन (बन) (Blood Urea Nitrogen) (BUN)
  • बन /क्रेटिनिन रेश्यो (BUN / Cretinine Ratio)

किडनी फंक्शन टेस्ट कैसे किया जाता है?

किडनी फंक्शन टेस्ट एक सामान्य रक्त आधारित टेस्ट है। इसमें अनेक पैरामीटर्स होते हैं जो किडनी के स्वास्थ्य को प्रदर्शित करता है। किडनी फंक्शन टेस्ट की रिपोर्ट में किडनी के पैरामीटर्स की सामान्य सीमाएँ शामिल होती है। एक phlebotomist या एक टेकनीशियन इस परीक्षण के लिए आपके हाथ से खून का नमूना निकालेंगे। इसमें घर से कलेक्शन की भी व्यवस्था की जा सकती है। इसका परिणाम 24 घंटे के अंदर आ जाता हैं।

LabsAdvisor.com के साथ किडनी फंक्शन टेस्ट बुक करें

LabsAdvisor can book Kidney Function Test in over 200 Indian cities

किडनी फंक्शन टेस्ट के लिए उपलब्ध प्रयोगशालाएँ कौन सी हैं?

किडनी फंक्शन टेस्ट कई पैथोलॉजी लैब्स द्वारा किया जाता है। आप LabsAdvisor.com के द्वारा इस नंबर 08882668822 पर फोन करके अपने पास की प्रयोगशाला चुन सकते हैं और Labsadvisor.com पर जाकर अपने टेस्ट ऑनलाइन भी बुक कर सकते हैं।

हमारे पैनल पर कई प्रयोगशालाएँ है जिन्हें आप अपनी इच्छानुसार चुन सकते हैं।

  • Thyrocare Technologies
  • Metropolis
  • Niramaya
  • Accuprobe
  • Allianz Health
  • Janta X-Ray
  • Mahajan Imaging
  • Quest Diagnostics
  • Oncquest

सही प्रयोगशाला का चयन करने में हम आपकी सहायता कर सकते हैं। अगर आप विचार-विमर्श करने के लिए call back  चाहते हैं, तो नीचे दिए गए फॉर्म को भरें।

भारत में किडनी फंक्शन टेस्ट (KFT) की कीमत / गुर्दे के टेस्ट की लागत

किडनी फंक्शन टेस्ट की कीमत हर लैब के हिसाब से अलग अलग हो सकती है। कुछ प्रयोगशालाओं के अपने ब्रांड के लिए प्रीमियम मूल्य होते हैं , जबकि दूसरो के सस्ते क्योंकि वे मार्केटिंग पर अधिक खर्च नहीं करते।  LabsAdvisor आपको, आपकी आवश्यकता के अनुसार अच्छी लैब का चयन करने की सुविधा देता है। नीचे दी गई तालिका में LabsAdvisor.com के साथ आप किडनी फंक्शन टेस्ट की न्यूनतम कीमत देख सकते हैं। आपके द्वारा चुना गया लिंक आपको कई प्रयोगशाला के विकल्पों के पृष्ठ पर ले जाएगा।

किडनी फंक्शन टेस्ट की कीमत /KFT टेस्ट की लागत कम से कम कीमत
दिल्ली में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 354
गुड़गांव में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 360
नोएडा में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 440
मुंबई में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515
हैदराबाद में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515
फरीदाबाद में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 440
बेंगलुरु में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 416
गाज़ियाबाद में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 440
नवी मुंबई में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515
चंडीगढ़ में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515
चेन्नई में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515
भारत के किसी भी शहर में किडनी फंक्शन टेस्ट / KFT की कीमत ₹ 515

₹ 200 का वाउचर पाएँ और LabsAdvisor के साथ कोई भी मेडिकल टेस्ट करवाएँ। 

कोड प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।


किडनी फंक्शन टेस्ट बुक करने के लिए 08882668822 पर कॉल करें।  अगर आप हमसे कॉल बैक चाहते है, तो नीचे दिए फॉर्म को भरें

किडनी फंक्शन टेस्ट के बारे में और पता करने के लिए, नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करें ।

http://www.healthline.com/health/kidney-function-tests

To know more about serum creatinine test read the guide here

Do you know that diabetes and blood pressure cause over 50% kidney diseases in India, click to know more

To read this article in English, click here: Complete Guide on Kidney Function Test in India including KFT Test Cost in India


9 Comments

Anil · March 23, 2017 at 10:09 pm

Kharar me KAT 250 KA

Manish kumar · May 15, 2017 at 11:35 pm

Mera creatinine leavel bhut hight h ap ise control kr ne ka treeka bttao

puran kumar · May 23, 2017 at 10:57 am

Meta creatinine bhut hight control krne baato

Gajendra kumar · September 17, 2017 at 6:59 pm

Kidni stone se sambandhit koi a.v.p test hota hai sir or agr hota h to uska kya prosess h

Anonymous · October 2, 2017 at 9:57 am

Aavshayak jankari ke liye dhanyawad

Ravi tripathi · October 9, 2017 at 8:59 pm

sir में 25 साल का हूँ मै 1 साल 6 माह से बार बार पेसाब बहुत जादा लगना ओर ब्लेडर में जलन ऐठन रहना पेसाब करने के बाद पेट मे नाभि के ऊपर ओर छाती के नीचे दर्द और जलन जी मचलाना से परेशान हूँ मेने सोनोग्राफी, इंडोस्कोपी, एक्सरे सभी करा लिए ये नार्मल है बस ब्लड टेस्ट में टाइफाइड निकला था ओर यूरिन में इंफेक्शन अब बो भी नही है बताया में क्या करूँ।

इन 11 कारणों की वज़ह से आप थकान महसूस कर सकते हैं। (Feeling Tired in Hindi) – लैब्स एडवाइज़र (LabsAdvisor.com) · April 1, 2017 at 12:39 pm

[…] किडनी के कार्य की समस्याओं के विश्लेषण के लिए सरल रक्त और मूत्र परीक्षण किया जाता है। टेस्ट के इस पैनल को किडनी फ़ंक्शन टेस्ट कहा जाता है। इसमें सीरम क्रिएटिनिन और रक्त यूरिया नाइट्रोजन जैसी पैरामीटर्स को शामिल किया गया है। रक्त में क्रिएटिनिन के स्तर को मापने के लिए सीरम क्रिएटिनिन टेस्ट किया जाता है। उच्च स्तर से गुर्दा की समस्या का संकेत मिलता है। रक्त यूरिया नाइट्रोजन को रक्त में अपशिष्ट उत्पादों की जांच करने और रक्त में नाइट्रोजन की मात्रा को मापने के लिए किया जाता है। 7 से 20 के बीच का BUN स्तर सामान्य माना जाता है। हालांकि, एक उच्च स्तर अस्वास्थ्य गुर्दे को इंगित करता है। किडनी फंक्शन टेस्ट के बारे में और जानन… […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: